संग्रह की मदद से व्यवस्थित रहें अपनी प्राथमिकताओं के आधार पर, कॉन्टेंट को सेव करें और कैटगरी में बांटें.

एक से ज़्यादा इलाकों के लिए और कई भाषाओं में बनाई गई साइटें मैनेज करना

अगर आपकी वेबसाइट, कई भाषाओं में और कई देशों या इलाकों के हिसाब से, लोगों को अलग-अलग कॉन्टेंट उपलब्ध कराती है, तो वेबसाइट के लिए Google Search पर खोज के नतीजों को बेहतर बनाया जा सकता है.

कई भाषाओं में बनाई गई और कई देशों या इलाकों के हिसाब से बनाई गई वेबसाइट के बीच क्या अंतर है?

  • कई भाषाओं में बनाई गई वेबसाइट, वह वेबसाइट होती है जिसका कॉन्टेंट एक से ज़्यादा भाषाओं में उपलब्ध होता है. उदाहरण के लिए, कनाडा का कोई ऐसा कारोबार जिसकी साइट, अंग्रेज़ी और फ़्रेंच, दोनों भाषाओं में उपलब्ध है. Google Search की यह कोशिश रहती है कि उस भाषा में पेज दिखाया जाए जिसका इस्तेमाल खोज करने के लिए किया गया है.
  • एक से ज़्यादा इलाकों के लिए बनाई गई वेबसाइट, अलग-अलग देशों के उपयोगकर्ताओं को टारगेट करती है. उदाहरण के लिए, किसी ऐसी कंपनी की साइट जो कनाडा और अमेरिका, दोनों देशों में अपना प्रॉडक्ट बेचती है. Google Search, खोज करने वाले व्यक्ति के इलाके और भाषा के हिसाब से पेज दिखाने की कोशिश करता है.

कुछ साइटों का कॉन्टेंट कई भाषाओं में होने के साथ-साथ अलग-अलग इलाकों के हिसाब से भी होता है: उदाहरण के लिए, किसी साइट का कॉन्टेंट, अमेरिका और कनाडा के लोगों के लिए अलग-अलग हो सकता है. इसके अलावा, साइट पर उपलब्ध कैनेडियन कॉन्टेंट दो अलग-अलग भाषाओं, जैसे कि फ़्रेंच और अंग्रेज़ी में भी हो सकता है.

अपनी साइट के कई भाषाओं वाले वर्शन मैनेज करना

अगर आपकी साइट पर एक जैसा कॉन्टेंट, अलग-अलग भाषाओं में उपलब्ध है, तो इन सुझावों को अपनाकर, उपयोगकर्ता (और Google Search) सही पेज तक पहुंच सकते हैं.

अलग-अलग भाषाओं वाले वर्शन के लिए, अलग-अलग यूआरएल इस्तेमाल करना

Google, पेज के कॉन्टेंट की भाषा बदलने के लिए, कुकी या ब्राउज़र की सेटिंग इस्तेमाल करने के बजाय किसी पेज के अलग-अलग भाषाओं वाले वर्शन के लिए, अलग-अलग यूआरएल इस्तेमाल करने की सलाह देता है.

अगर अलग-अलग भाषाओं के लिए अलग-अलग यूआरएल इस्तेमाल किया जा रहा है, तो Google पर खोज नतीजों में किसी पेज के सही भाषा वाले वर्शन को दिखाने के लिए, hreflang एनोटेशन का इस्तेमाल करें.

अगर आपको अपनी वेबसाइट पर मौजूद कॉन्टेंट में बार-बार बदलाव करना है या भाषा की सेटिंग के मुताबिक उपयोगकर्ता को दूसरे लिंक पर भेजना है, तो इस बात का ध्यान रखें कि शायद Google आपके पेज के सारे वर्शन न ढूंढ पाए और न ही उन्हें क्रॉल कर पाए. इसकी वजह यह है कि आम तौर पर, Googlebot क्रॉलर अमेरिका में लगे सर्वर के ज़रिए काम करता है. इसके अलावा, क्रॉलर, अनुरोध के हेडर में Accept-Language सेट किए बिना ही एचटीटीपी अनुरोध भेजता है.

Google को अपने पेज के अलग-अलग भाषाओं वाले वर्शन के बारे में बताना

किसी पेज के अलग-अलग भाषाओं या इलाकों वाले वर्शन को लेबल करने के लिए, Google के पास कई तरीके हैं. इनमें hreflang एनोटेशन और साइटमैप भी शामिल हैं. अपने पेज को सही तरीके से मार्क करें.

ध्यान रखें कि पेज की भाषा ऐसी होनी चाहिए जिसे आसानी से समझा जा सके

Google आपके पेज पर दिख रहे कॉन्टेंट का इस्तेमाल करके, पेज की भाषा का पता लगाता है. हम lang एट्रिब्यूट या यूआरएल जैसी कोड-लेवल भाषा में दी गई किसी भी जानकारी का इस्तेमाल नहीं करते हैं. अपने पेज की सही भाषा पहचानने में Google की मदद करने के लिए, हर पेज के कॉन्टेंट और नेविगेशन के लिए एक ही भाषा का इस्तेमाल करें. साथ ही, साइट के मूल कॉन्टेंट के साथ उसका अनुवाद न दिखाएं.

अपने पेजों के ज़्यादातर कॉन्टेंट को एक ही भाषा में रखकर (जैसा कि अक्सर यूज़र जनरेटेड कॉन्टेंट दिखाने वाले पेजों में होता है) सिर्फ़ बॉयलरप्लेट टेक्स्ट का अनुवाद करने से, आपकी साइट के उपयोगकर्ताओं को खराब अनुभव मिल सकता है. ऐसा तब होता है, जब खोज के नतीजों में एक ही कॉन्टेंट, अलग-अलग बॉयलरप्लेट भाषाओं में कई बार दिखता है.

सर्च इंजन को अपनी साइट पर मौजूद ऐसे पेज क्रॉल करने से रोकें जिनके कॉन्टेंट का अनुवाद, मशीन अपने-आप करती है. ऐसा करने के लिए, robots.txt का इस्तेमाल करें. मशीन से किया गया अनुवाद हमेशा सही नहीं होता है और उसे स्पैम के तौर पर देखा जा सकता है. इससे भी ज़रूरी बात यह है कि खराब अनुवाद की वजह से, आपकी साइट की छवि पर बुरा असर पड़ सकता है.

उपयोगकर्ता को पेज की भाषा बदलने का विकल्प देना

अगर आपकी साइट पर मौजूद किसी पेज के एक से ज़्यादा वर्शन हैं, तो:

  • लोगों को साइट के किसी एक भाषा वाले वर्शन से, साइट के किसी दूसरे भाषा वाले वर्शन पर अपने-आप रीडायरेक्ट करने से बचें. उदाहरण के लिए, अपने हिसाब से लोगों की भाषा का अनुमान लगाकर, रीडायरेक्ट न करें. इस तरह रीडायरेक्ट करने से, लोग और सर्च इंजन आपकी साइट के सभी वर्शन नहीं देख पाएंगे.
  • पेज के दूसरी भाषाओं वाले वर्शन के हाइपरलिंक जोड़ें. ऐसा करने से, उपयोगकर्ता को पेज के अलग-अलग भाषा वाले वर्शन को चुनने के लिए हाइपरलिंक पर क्लिक करना होगा.

अलग-अलग भाषा के लिए, खास यूआरएल का इस्तेमाल करना

यूआरएल में स्थानीय भाषा के शब्दों या फिर इंटरनैशनलाइज़्ड डोमेन नेम (आईडीएन) का इस्तेमाल किया जा सकता है. हालांकि, यूआरएल में UTF-8 एन्कोडिंग का इस्तेमाल ज़रूर करें. साथ ही, यूआरएल जोड़ते समय उन्हें ठीक तरह से एस्केप करना न भूलें. हमारा सुझाव है कि जहां भी मुमकिन हो, UTF-8 का ही इस्तेमाल करें.

किसी देश के हिसाब से साइट पर कॉन्टेंट दिखाना (इलाके के हिसाब से टारगेट करना)

अपनी वेबसाइट या उसके कॉन्टेंट का कुछ हिस्सा, किसी देश के उन उपयोगकर्ताओं को टारगेट करते हुए तैयार किया जा सकता है, जो कोई खास भाषा बोलते-समझते हों. ऐसा करने से, टारगेट किए गए देश में आपके पेज की रैंकिंग बेहतर हो सकती है. हालांकि, दूसरे इलाकों या भाषाओं में रैंकिंग घट सकती है.

Google पर, अपनी साइट को इलाके के हिसाब से टारगेट करना:

याद रखें कि यह ज़रूरी नहीं है कि इलाके के हिसाब से टारगेट करने से, आपको बिलकुल सही नतीजे मिलें. इसलिए, उन लोगों का भी ध्यान रखें जो आपकी साइट के "गलत" वर्शन पर चले जाते हैं. ऐसा करने का एक तरीका यह है कि सभी पेजों पर लोगों को ऐसे लिंक दिखाए जाएं जिनकी मदद से, वे अपने इलाके और/या अपनी भाषा के हिसाब से पेज चुन सकें.

अलग-अलग इलाकों के लिए वहां की भाषा के हिसाब से यूआरएल इस्तेमाल करना

ऐसे यूआरएल इस्तेमाल करें जिनकी मदद से, आपकी साइट या उसके कुछ हिस्से, अलग-अलग जगहों के उपयोगकर्ताओं को टारगेट कर सकें. इस टेबल में, आपके लिए उपलब्ध विकल्पों के बारे में जानकारी दी गई है:

यूआरएल के स्ट्रक्चर से जुड़े विकल्प
देश के हिसाब से डोमेन

example.de

फ़ायदे:

  • इलाके के हिसाब से सही तरीके से टारगेट करने की सुविधा
  • सर्वर की जगह की जानकारी डालने की ज़रूरत नहीं होती
  • साइटों के अलग-अलग वर्शन आसानी से बनाए जा सकते हैं

नुकसान:

  • महंगे होते हैं (कुछ ही जगहों में उपलब्ध हो सकते हैं)
  • सामान्य से ज़्यादा बुनियादी सुविधाओं की ज़रूरत होती है
  • कभी-कभी ccTLD की पूरी जानकारी देना ज़रूरी होता है
  • सिर्फ़ एक देश को टारगेट किया जा सकता है
gTLD वाले सबडोमेन

de.example.com

फ़ायदे:

  • इन्हें आसानी से सेट अप किया जा सकता है
  • एक से ज़्यादा जगहों वाले सर्वर इस्तेमाल किए जा सकते हैं
  • साइटों के अलग-अलग वर्शन आसानी से बनाए जा सकते हैं

नुकसान:

  • उपयोगकर्ता सिर्फ़ यूआरएल की मदद से, टारगेट किए गए इलाकों की पहचान शायद न कर पाएं (यह दुविधा हो सकती है कि "de" भाषा है या देश?)
जीटीएलडी वाली सबडायरेक्ट्री

example.com/de/

फ़ायदे:

  • इन्हें आसानी से सेट अप किया जा सकता है
  • एक ही होस्ट होने की वजह से, कम रखरखाव की ज़रूरत होती है

नुकसान:

  • उपयोगकर्ता सिर्फ़ यूआरएल की मदद से, टारगेट किए गए इलाकों की पहचान शायद न कर पाएं
  • एक ही जगह पर मौजूद सर्वर इस्तेमाल किए जा सकते हैं
  • साइट के अलग-अलग वर्शन बनाना मुश्किल होता है
यूआरएल पैरामीटर

site.com?loc=de

इसे इस्तेमाल करने का सुझाव नहीं दिया जाता है.

नुकसान:

  • साइट के हर वर्शन के लिए अलग से यूआरएल बनाना मुश्किल होता है
  • उपयोगकर्ता सिर्फ़ यूआरएल की मदद से, टारगेट किए गए इलाकों की पहचान शायद न कर पाएं

Google किसी साइट के लिए टारगेट करने वाली जगह या भाषा कैसे तय करता है?

किसी पेज के लिए सबसे सही टारगेट ऑडियंस का पता लगाने के लिए, Google कई तरह के सिग्नल को ध्यान में रखता है:

  • देश के कोड के हिसाब से टॉप लेवल डोमेन नेम (ccTLD). इनमें, अलग-अलग देशों के लिए अलग-अलग कोड होते हैं (उदाहरण के लिए, जर्मनी के लिए .de, चीन के लिए .cn). इसलिए, इनकी मदद से सर्च इंजन और उपयोगकर्ताओं को साफ़ तौर पर पता चल जाता है कि आपकी साइट किस देश के उपयोगकर्ताओं के हिसाब से है. कुछ देशों में इस बात पर पाबंदी लगी है कि सीसीटीएलडी का इस्तेमाल कौन कर सकता है. इसलिए, पहले इस बारे में जानकारी इकट्ठा कर लें. हम कुछ खास सीसीटीएलडी, जैसे कि .tv और .me को जीटीएलडी जैसा ही मानते हैं. इसकी वजह यह है कि उपयोगकर्ता और वेबसाइट के मालिक, अक्सर इन्हें किसी खास देश के लिए टारगेट किए गए डोमेन की तरह मानने के बजाय, सामान्य डोमेन की तरह ही मानते हैं. Google की जीटीएलडी वाली सूची देखें.
  • hreflang स्टेटमेंट, फिर चाहे वे टैग, हेडर या साइटमैप में हों.
  • सर्वर के आईपी पते की मदद से, सर्वर की जगह की जानकारी. आम तौर पर, सर्वर आपकी साइट के उपयोगकर्ताओं के आस-पास की जगह पर मौजूद होता है. इससे पता चल सकता है कि आपकी साइट किस देश/इलाके की ऑडियंस के लिए है. कुछ वेबसाइटें, कॉन्टेंट डिलीवरी नेटवर्क (सीडीएन) के ज़रिए एक से ज़्यादा सर्वर का इस्तेमाल करती हैं या वे ऐसे देश से होस्ट की जाती हैं जहां वेब सर्वर बेहतर तरीके से काम करते हैं. इसलिए, सर्वर की जगह की जानकारी से, टारगेट किए गए इलाके के बारे में साफ़ तौर पर पता नहीं चलता है.
  • पेज के लिए सही ऑडियंस तय करने के दूसरे तरीके. आपकी साइट के लिए सही ऑडियंस का पता लगाने वाले अन्य सिग्नल में, पेज पर मौजूद स्थानीय पते और फ़ोन नंबर शामिल हो सकते हैं. इसके अलावा, पेज पर मौजूद स्थानीय भाषा और मुद्रा, दूसरी स्थानीय साइटों के लिंक या आपके Business Profile (उपलब्ध होने पर) से मिली जानकारी से भी इस बारे में पता लगाया जा सकता है.

Google क्या नहीं करता है:

  • Google, दुनिया भर की अलग-अलग जगहों की वेबसाइटों को क्रॉल करता है. हम किसी साइट पर मौजूद पेज के अलग-अलग वर्शन ढूंढने के लिए, उस पर इस्तेमाल किए गए क्रॉलर का स्रोत बदलने की कोशिश नहीं करते. इसलिए, अपनी साइट के लिए अलग-अलग इलाकों या स्थानीय भाषाओं वाले वर्शन के बारे में Google को साफ़ तौर पर बताएं. इसके लिए, यहां दिखाए गए तरीकों (जैसे कि hreflang एंट्री, ccTLDs या अलग से बनाए गए लिंक) का इस्तेमाल करें.
  • जगह की जानकारी से जुड़े मेटा टैग (जैसे, geo.position या distribution) या इलाके के हिसाब से टारगेट करने के लिए इस्तेमाल होने वाले एचटीएमएल एट्रिब्यूट पर Google ध्यान नहीं देता है.

एक से ज़्यादा भाषाओं/इलाकों के लिए बनाई गई साइटों के साथ डुप्लीकेट पेजों को मैनेज करना

अगर एक से ज़्यादा इलाकों में दिखने वाली किसी साइट के अलग-अलग यूआरएल में मिलता-जुलता या डुप्लीकेट कॉन्टेंट है और दोनों वर्शन में एक ही भाषा का इस्तेमाल होता है (जैसे कि example.de/ और example.com/de/, दोनों ही जर्मन भाषा में मिलता-जुलता कॉन्टेंट दिखाते हैं), तो इनमें से एक को मुख्य वर्शन के तौर पर चुनें. साथ ही, rel="canonical" एलिमेंट और hreflang टैग इस्तेमाल करें, ताकि खोज करने वालों को उनकी भाषा या इलाके के हिसाब से सही यूआरएल मिल सके.

जेनरिक टॉप लेवल डोमेन

जेनरिक टॉप लेवल डोमेन (जीटीएलडी) ऐसे डोमेन होते हैं जो किसी खास जगह से नहीं जुड़े होते. अगर आपकी साइट के यूआरएल में .com, .org जैसे जेनरिक टॉप लेवल डोमेन का इस्तेमाल किया जाता है या यहां दिए गए डोमेन में से किसी एक का इस्तेमाल किया जाता है और आपको किसी खास जगह के उपयोगकर्ताओं को टारगेट करना है, तो टारगेट करने के लिए साफ़ तौर पर एक देश का नाम सेट करें. ऐसा करने के लिए, पहले बताए गए तरीकों में से किसी एक का इस्तेमाल करें.

Google इन टॉप लेवल डोमेन को gTLD जैसा मानता है:

  • जेनरिक टॉप लेवल डोमेन: Google, आईएएनए डीएनएस के रूट ज़ोन से आने वाले सभी टीएलडी को gTLD जैसा मानेगा. ऐसा तब तक होगा, जब तक आईसीएएनएन किसी टॉप लेवल डोमेन को देश के कोड के हिसाब से, टॉप लेवल डोमेन (ccTLD) के तौर पर रजिस्टर नहीं करेगा. उदाहरण:
    • .com
    • .org
    • .edu
    • .gov
    • इनके अलावा और भी कई डोमेन...
  • जेनरिक रीजनल टॉप लेवल डोमेन: हालांकि, ये डोमेन किसी जगह के हिसाब से होते हैं, लेकिन आम तौर पर इन्हें जेनरिक टॉप लेवल डोमेन (.com या .org की तरह) ही माना जाता है:
    • .eu
    • .asia
  • देश के कोड के हिसाब से जेनरिक टॉप लेवल डोमेन (ccTLD): Google कुछ ccTLD, जैसे कि .tv और .me को gTLD जैसा ही मानता है. इसकी वजह यह है कि उपयोगकर्ता और वेबसाइट के मालिक, अक्सर इन्हें किसी खास देश के लिए टारगेट किए गए डोमेन मानने के बजाय, सामान्य डोमेन मानते हैं. ऐसे कुछ ccTLD की सूची यहां दी गई है (यह सूची बदल सकती है).
    • .ad
    • .as
    • .bz
    • .cc
    • .cd
    • .co
    • .dj
    • .fm
    • .io
    • .la
    • .me
    • .ms
    • .nu
    • .sc
    • .sr
    • .su
    • .tv
    • .tk
    • .ws