क्या आपको एसईओ एक्सपर्ट की ज़रूरत है?

एसईओ क्या होता है?

एसईओ को "सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन" या "सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़र" कहते हैं. किसी एसईओ एक्सपर्ट को काम पर रखना एक बड़ा फ़ैसला है. इससे आपकी साइट में सुधार हो सकता है और आपका समय भी बच सकता है. हालांकि, आपके एक गलत फ़ैसले से नुकसान होने और आपकी प्रतिष्ठा खराब होने का खतरा भी रहता है. एसईओ की सेवा लेने से पहले इस बारे में अच्छे से पता कर लें कि आपको इससे क्या फ़ायदे हो सकते हैं. साथ ही, एसईओ एक्सपर्ट की लापरवाही से आपकी साइट को होने वाले नुकसान के बारे में भी जान लें. एसईओ के कई जानकार और दूसरी एजेंसियां और सलाहकार, वेबसाइट मालिकों को ज़रूरी सेवाएं देते हैं, जिनमें ये शामिल हैं:

  • आपकी साइट के कॉन्टेंट या स्ट्रक्चर की समीक्षा करना
  • वेबसाइट डेवलपमेंट के बारे में तकनीकी सलाह. उदाहरण के लिए, होस्ट करना, रीडायरेक्ट करना, गड़बड़ी वाले पेज की जानकारी इकट्ठा करना, और JavaScript का इस्तेमाल करना
  • कॉन्टेंट डेवलपमेंट
  • ऑनलाइन कारोबार बढ़ाने के कैंपेन का मैनेजमेंट
  • कीवर्ड रिसर्च
  • एसईओ ट्रेनिंग
  • कुछ खास तरह के बाज़ारों और जगहों के हिसाब से बेहतर जानकारी देना.

Google के ज़रिए विज्ञापन दिखाने से, इस पर कोई असर नहीं पड़ेगा कि आपकी साइट हमारे खोज के नतीजों में किस तरह दिखती है. साइट को खोज के नतीजों में दिखाने या उसकी रैंकिंग बेहतर करने के लिए, Google पैसे नहीं लेता. साथ ही, अपनी साइट को हमारे ऑर्गैनिक सर्च के नतीजों में दिखाने के लिए, आपको कोई कीमत नहीं देनी पड़ती. हमारे पास Search Console, Google Search Central ब्लॉग, और चर्चा के लिए इस्तेमाल होने वाले हमारे फ़ोरम जैसे संसाधन मौजूद हैं. इनका इस्तेमाल करके आपको ऑर्गैनिक सर्च के लिए अपनी साइट को ऑप्टिमाइज़ करने के तरीकों के बारे में बहुत सारी जानकारी मिल सकती है.

शुरू करना

अगर आपका छोटा सा स्थानीय कारोबार है, तो ज़्यादातर काम खुद ही किया जा सकता है. आपकी मदद के लिए, यहां कुछ बेहतर संसाधन दिए गए हैं:

याद रखें कि आपको नतीजे दिखने में समय लगेगा: आम तौर पर, इसमें चार महीने से लेकर एक साल लगता है. यह बदलाव शुरू करने से उसके फ़ायदे दिखने तक के बीच की समयावधि होती है.

अगर आपको अब भी लगता है कि किसी पेशेवर एसईओ की मदद लेनी चाहिए, तो एसईओ चुनने के तरीके के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ें.

एसईओ चुनना

अगर आपको किसी एसईओ को काम पर रखना है, तो ऐसा करने में देर न करें. किसी को काम पर रखने का सबसे अच्छा समय तब है, जब आपको कोई साइट दोबारा डिज़ाइन करनी हो या नई साइट लॉन्च करनी हो. इस तरह, आप और आपका एसईओ पक्का कर सकते हैं कि आपकी साइट, पूरी तरह से सर्च इंजन के हिसाब से डिज़ाइन की गई हो. हालांकि, अच्छा एसईओ मौजूदा साइट को बेहतर बनाने में मदद भी कर सकता है.

  1. सुझाए गए बदलावों को लागू करने के लिए प्रतिबद्ध रहें. एसईओ एक्सपर्ट के सुझाए गए बदलावों को लागू करने में समय और मेहनत, दोनों लगती हैं. अगर इन बदलावों को समय देना आपके लिए मुमकिन नहीं है, तो किसी पेशेवर एसईओ को काम पर रखने का कोई फ़ायदा नहीं है.
  2. एसईओ एक्सपर्ट का इंटरव्यू लेना. यहां कुछ ज़रूरी सवाल दिए गए हैं, जिन्हें एसईओ एक्सपर्ट से पूछा जा सकता है:
    • क्या आपके पास अपने पिछले काम में मिली सफलता के कुछ उदाहरण हैं?
    • क्या आप Google वेबमास्टर गाइडलाइन का पालन करते हैं?
    • क्या आप ऑर्गैनिक सर्च में कारोबार को ज़्यादा बार दिखाने के काम के लिए, कोई ऑनलाइन मार्केटिंग सेवा या सलाह देते हैं?
    • आप अपने काम से किस तरह के नतीजों की उम्मीद करते हैं और कितने समय में? आप अपनी सफलता कैसे मापते हैं?
    • मेरे कारोबार के क्षेत्र में आपको कितना अनुभव है?
    • आपके पास मेरे देश या शहर में काम करने का कितना और किस तरह का अनुभव है?
    • अंतरराष्ट्रीय साइटों को डेवलप करने में आपका क्या अनुभव है?
    • आपके लिए, एसईओ से जुड़ी सबसे ज़रूरी या अहम तकनीकें कौनसी हैं?
    • आपको काम करते हुए कितना समय हो गया?
    • आपसे किस तरह से संपर्क किया जा सकता है? क्या मुझे बताया जाएगा कि मेरी साइट में किस तरह के बदलाव किए जाएंगे? क्या मुझे दिए जाने वाले सुझावों और उन्हें देने की वजहों के बारे में भी ज़्यादा जानकारी दी जाएगी?
    • देखें कि एसईओ एक्सपर्ट की आप में और आपके कारोबार में दिलचस्पी है या नहीं. अगर उसे दिलचस्पी नहीं है, तो किसी ऐसे एसईओ को ढूंढ़ें जिसे आपके काम में दिलचस्पी हो. आपके एसईओ को इस तरह के सवाल पूछने चाहिए:
      • ऐसी कौनसी बातें हैं जो आपके कारोबार या सेवा को ग्राहकों के लिए खास और अहम बनाती हैं?
      • आपके ग्राहक कौन हैं?
      • आप कारोबार से पैसा कैसे कमाते हैं और इसमें खोज के नतीजे कैसे मदद कर सकते हैं?
      • आप विज्ञापन के लिए किन चैनलों का इस्तेमाल कर रहे हैं?
      • आपके प्रतिस्पर्धी कौन हैं?
  3. एसईओ के पिछले क्लाइंट से उसके बारे में जानकारी लें. पिछले क्लाइंट से पूछें कि क्या उन्हें ऐसा लगा कि इस एसईओ ने काम की सेवा दी, उसके साथ काम करना आसान था, और उसने अच्छे नतीजे दिए.
  4. उनके मुताबिक साइट में क्या बदलाव किए जाने चाहिए, क्यों किए जाने चाहिए, और इसके नतीजे क्या होंगे, यह जानकारी पाने के लिए, उनसे साइट की तकनीकी और खोज ऑडिट करने के लिए कहें. हो सकता है कि आपको इसके लिए़ पैसे चुकाने पड़ें. हो सकता है कि आपको Search Console पर उनको अपनी साइट का रीड ओनली ऐक्सेस देना पड़े. (इस स्टेज पर, उन्हें साइट में बदलाव करने की अनुमति न दें.) आपका एसईओ ऐसा होना चाहिए जो आपको ऐसे सुझाव दे जो असल में आपकी साइट में सुधार के लिए ज़रूरी हों और यह भी बता सके कि इसके लिए कितना काम करना पड़ सकता है. अगर वह गारंटी दे कि उसके किए गए बदलाव से, खोज के नतीजों में आपकी साइट पहले नंबर पर आ जाएगी, तो कोई दूसरा एसईओ ढूंढें.
  5. तय करें कि आपको एसईओ एक्सपर्ट की सेवा लेनी चाहिए या नहीं.

सावधानियां

कुछ एसईओ, क्लाइंट को फ़ायदेमंद सेवाएं दे सकते हैं. हालांकि, कुछ बेईमान एसईओ ने ज़रूरत से ज़्यादा मार्केटिंग और गलत तरीके से सर्च इंजन के नतीजों में हेर-फेर करके, कारोबार को नुकसान पहुंचाया है. हमारे दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने वाले तरीके अपनाने से, Google पर आपकी साइट की मौजूदगी पर बुरा असर पड़ सकता है. इसके अलावा, आपकी साइट हमारे इंडेक्स से हटाई भी जा सकती है.

जब आपका एसईओ, आपकी साइट पर बदलाव के लिए कुछ सुझाव दे, तो उससे कहें कि वह इन बदलावों की पुष्टि किसी भरोसेमंद सोर्स से करे. जैसे, Search Console का सहायता पेज, Google Search Central ब्लॉग या फ़ोरम में दिया गया जवाब, जिसकी पुष्टि Google ने की हो.

यहां दी गई कुछ बातों का ध्यान रखें:

  • "शैडो" डोमेन बनाना आम तौर पर की जाने वाली धोखाधड़ी है. इसमें उपयोगकर्ताओं को धोखे से किसी दूसरी साइट पर ले जाया जाता है. इन शैडो डोमेन के मालिक, अक्सर ऐसे एसईओ होते हैं जो किसी क्लाइंट की ओर से काम करने का दावा करते हैं. हालांकि, अगर क्लाइंट से उनका रिश्ता बिगड़ जाता है, तो वे डोमेन को किसी दूसरी साइट से जोड़ सकते हैं या उपयोगकर्ताओं को क्लाइंट के किसी प्रतिस्पर्धी के डोमेन पर ले जा सकते हैं. अगर ऐसा होता है, तो क्लाइंट के खर्चे पर प्रतिस्पर्धी की साइट डेवलप होती है और उस साइट का पूरा मालिकाना हक एसईओ के पास होता है.
  • दूसरा गैर-कानूनी तरीका है, क्लाइंट की साइट पर "डोरवे" पेज जोड़ना. ये ऐसे पेज होते हैं जिनके कॉन्टेंट में कई सारे कीवर्ड डाले जाते हैं. एसईओ यह वादा करता हैं कि ऐसा करने पर पेज ज़्यादा से ज़्यादा क्वेरी के जवाब के तौर पर खोज के नतीजों में दिखेगा. यह पूरी तरह से गलत है, क्योंकि ऐसा बहुत कम होता है कि कई तरह के कीवर्ड के लिए सिर्फ़ एक पेज दिखाया जाए. उससे बड़ा धोखा यह है कि इन डोरवे पेज में अक्सर छिपे हुए लिंक होते हैं, जो एसईओ के दूसरे क्लाइंट की साइट पर भी ले जाते हैं. ऐसे डोरवे पेज किसी साइट के लिंक की लोकप्रियता (वह संख्या जिससे पता चलता है कि किसी साइट का लिंक कितनी जगहों पर मौजूद है) को धीरे-धीरे कम करके, एसईओ और उनके दूसरे क्लाइंट की साइट के लिंक की लोकप्रियता बढ़ा देते हैं. इन साइटों में, आपत्तिजनक और गैरकानूनी कॉन्टेंट वाली साइटें भी शामिल हो सकती हैं.
  • आखिर में, लिंक स्कीम में शामिल होने से बचें. जैसे, अपनी रैंकिंग बेहतर करने के लिए, दूसरी साइटों से लिंक खरीदना. यह क्वालिटी के लिए बनाए गए Google के दिशा-निर्देशों के ख़िलाफ़ है. इसकी वजह से, आपकी साइट के कुछ हिस्सों या पूरी साइट पर मैन्युअल ऐक्शन लिया जा सकता है. इससे आपकी साइट की रैंकिंग पर बुरा असर पड़ेगा.

अगर आपको लगता है कि एसईओ ने आपके साथ धोखाधड़ी की है, तो उसकी शिकायत की जा सकती है.

अमेरिका में, फ़ेडरल ट्रेड कमीशन (एफ़टीसी) ऐसी शिकायतों पर कार्रवाई करती है जो कारोबार में गलत और धोखा देने के लिए इस्तेमाल होने वाले तरीकों के बारे में होती हैं. शिकायत दर्ज करने के लिए, http://www.ftc.gov/ पर जाएं और "File a Complaint Online" पर क्लिक करें. इसके अलावा, 1-877-FTC-HELP पर कॉल करें या फिर इस पते पर शिकायत भेजें:

Federal Trade Commission
CRC-240
Washington, D.C. 20580

अगर आपको अमेरिका के बजाय, किसी दूसरे देश की कंपनी के ख़िलाफ़ शिकायत करनी है, तो कृपया http://www.econsumer.gov/ पर जाकर अपनी शिकायत दर्ज करें.

उपयोगी दिशा-निर्देश

  • एसईओ की ऐसी कंपनियों और वेब सलाहकारों या एजेंसियों से सावधान रहें जो आपको अचानक ईमेल भेजती हैं.

    हैरानी की बात है कि हमें भी स्पैम वाले ऐसे ईमेल मिलते हैं:

    "नमस्ते google.com,
    मैंने आपकी वेबसाइट देखी और यह पाया कि आपकी साइट, ज़्यादातर अहम सर्च इंजन और डायरेक्ट्री में शामिल नहीं है..."

    सर्च इंजन के बारे में मिलने वाले अनचाहे ईमेल के लिए वैसी ही सोच रखनी चाहिए जैसी "रातों-रात वज़न घटाएं" वाली गोलियों या उन ईमेल के लिए रखी जाती है जिनमें अनजाने लोगों को पैसे भेजने की मांग की जाती है.

  • Google पर कोई भी #1 रैंकिंग की गारंटी नहीं दे सकता.

    ऐसे एसईओ से सावधान रहें जो साइट की रैंकिंग बेहतर करने की गारंटी देते हों. साथ ही, उनसे भी सावधान रहें जो Google के साथ "खास संबंध" होने का दावा करते हों या इस बात का विज्ञापन देते हों कि वे Google के पास आपकी साइट को "क्रॉल कराने के लिए दूसरों से पहले सबमिट" कर सकते हैं. Google पर दूसरों से पहले साइट को सबमिट किए जाने की कोई प्रक्रिया नहीं है. असल में, Google पर किसी साइट को क्रॉल कराने के लिए सीधे सबमिट करने का एक ही तरीका है, हमारा यूआरएल जांचने वाला टूल या साइटमैप के ज़रिए साइट सबमिट करना. यह काम खुद भी किया जा सकता है.

  • ऐसी कंपनी से सावधान रहें जो बातें छिपाती हो या वह जो करना चाहती है उसके बारे में साफ़ तौर पर जानकारी नहीं देती हो.

    अगर आपको एसईओ की कोई बात साफ़ तौर पर समझ नहीं आती है, तो उसे अच्छे से समझाने के लिए कहें. अगर कोई एसईओ आपकी ओर से धोखा देने या गुमराह करने वाला कॉन्टेंट डालता है, तो आपकी साइट को Google के इंडेक्स से पूरी तरह हटाया जा सकता है. इस तरह के कॉन्टेंट में डोरवे पेज या "थ्रोअवे" डोमेन (कुछ समय इस्तेमाल करने के लिए बनाए गए डोमेन) जैसा कॉन्टेंट शामिल हो सकता है. कुल मिलाकर, इसका मतलब है कि आपने जिन कंपनियों की सेवा ली है, उनकी कार्रवाइयों के लिए आपको ज़िम्मेदार ठहराया जाएगा. इसलिए, यह ज़रूरी है कि आप अच्छे से जान लें कि वे आपकी "मदद" कैसे करने वाली हैं. अगर किसी एसईओ के पास आपके सर्वर के फ़ाइल ट्रांसफ़र प्रोटोकॉल (एफ़टीपी) का ऐक्सेस है, तो उन्हें आपकी साइट में किए जा रहे सभी बदलावों की जानकारी आपको देनी चाहिए.

  • आपको किसी एसईओ के लिंक की ज़रूरत नहीं है.

    ऐसे एसईओ से दूर रहें जो लिंक की लोकप्रियता की स्कीम या आपकी साइट को हज़ारों सर्च इंजन पर सबमिट करने की बात करते हों. ये सारी बेकार गतिविधियां हैं, जिनसे मुख्य सर्च इंजन के नतीजों में आपकी रैंकिंग पर कोई असर नहीं होगा. कम से कम ऐसा बदलाव तो बिल्कुल नहीं होगा जिसे आप सही मान सकें.

  • समझदारी से चुनें.

    एसईओ की सेवा लेने से पहले अपने कारोबार के क्षेत्र के बारे में थोड़ी जानकारी इकट्ठा कर लें. ऐसा करने के लिए, Google की मदद ली जा सकती है. Google किसी खास कंपनी का नाम नहीं लेता. हालांकि, हमें ऐसी कंपनियों की जानकारी मिली है जो खुद को एसईओ बताती हैं, लेकिन उनके काम करने के तरीके को कारोबार के लिए बिल्कुल सही नहीं माना जा सकता. सावधान रहें.

  • आपका पैसा किन चीज़ों पर खर्च हो रहा है, इसकी जानकारी ज़रूर रखें.

    किसी साइट को खोज नतीजों में बेहतर रैंक पर लाने के लिए, Google कभी पैसे नहीं लेता. वहीं, कुछ दूसरे सर्च इंजन 'हर क्लिक के पेमेंट (पीपीसी)' या 'हर नतीजे में शामिल करने के लिए पेमेंट' वाले नतीजों को वेब पर की जाने वाली खोज के आम नतीजों में दिखा सकते हैं. कुछ एसईओ आपकी साइट को सर्च इंजन में बेहतर रैंकिंग दिलाने का वादा करेंगे, लेकिन साइट को खोज के नतीजों के बजाय, विज्ञापन सेक्शन में शामिल कर देंगे. कुछ एसईओ विज्ञापन के लिए लगने वाली बोली को रीयल-टाइम में बदलकर, यह भ्रम पैदा करते हैं कि वे दूसरे सर्च इंजन को "कंट्रोल" करते हैं और वे अपनी साइट के लिए मनचाही रैंक चुन सकते हैं. यह धोखाधड़ी Google पर काम नहीं करती, क्योंकि हमारे विज्ञापन, खोज के नतीजों से अलग दिखते हैं और उन पर विज्ञापन का लेबल भी होता है. हालांकि, आप जिस एसईओ की सेवा लें उससे यह पूछना न भूलें कि वह साइट को हमेशा और कुछ समय के लिए विज्ञापन में दिखाने के लिए क्या शुल्क लेता है.

  • इनके अलावा, किन दूसरी बातों का ध्यान रखना चाहिए?

    कुछ चेतावनियों से यह पता चलता है कि आपने किसी खराब एसईओ की सेवा ली है. यहां दी गई सूची में सारी जानकारी नहीं है. इसलिए, अगर आपको कोई शक हो, तो अपनी सूझ-बूझ से फ़ैसला लें:

    • शैडो डोमेन का मालिक है
    • डोरवे पेजों पर, अपने दूसरे क्लाइंट की साइटों के लिंक देता है
    • पता बार में कीवर्ड डालने की सुविधा बेचता है
    • खोज नतीजों के पेजों पर दिखने वाले असली खोज के नतीजों और विज्ञापनों में फ़र्क़ नहीं कर पाता
    • साइट की रैंकिंग की गारंटी देता है, लेकिन सिर्फ़ ऐसे कीवर्ड वाक्यांशों के लिए जो आसानी से समझ नहीं आते और जिनके लिए आपको आम तौर पर भी रैंकिंग मिल जाती है
    • झूठी WHOIS जानकारी या एक से ज़्यादा उपनाम के साथ काम करता है
    • "नकली" सर्च इंजन, स्पायवेयर या स्कमवेयर से ट्रैफ़िक लाता है
    • जिन डोमेन के लिए उसने काम किया था वे Google के इंडेक्स से हटा दिए गए हैं या वह एसईओ, Google की सूची में नहीं है