प्रोफ़ाइल पेज (ProfilePage) का स्ट्रक्चर्ड डेटा

खोज के नतीजों में नज़रिया फ़िल्टर का इलस्ट्रेशन

ProfilePage मार्कअप को किसी भी ऐसी साइट के लिए डिज़ाइन किया गया है जहां क्रिएटर्स (लोग या संगठन) अपने नज़रिया शेयर करते हैं. इससे Google Search को क्रिएटर के बारे में बेहतर जानकारी मिलती है. जैसे, क्रिएटर का नाम या सोशल हैंडल, प्रोफ़ाइल फ़ोटो, फ़ॉलोअर की संख्या या उसके कॉन्टेंट की लोकप्रियता. Google Search, इस मार्कअप का इस्तेमाल क्रिएटर की साफ़ तौर पर जानकारी देने के लिए भी करता है. साथ ही, वह नज़रिया, चर्चा, और फ़ोरम जैसी सुविधाओं में भी इस मार्कअप का इस्तेमाल करता है.

स्ट्रक्चर्ड डेटा की दूसरी सुविधाएं, ProfilePage मार्कअप वाले पेजों से भी लिंक की जा सकती हैं. उदाहरण के लिए, लेख और रेसिपी वाले स्ट्रक्चर्ड डेटा में लेखक की जानकारी होती है और चर्चा के लिए फ़ोरम और सवाल-जवाब वाला पेज स्ट्रक्चर्ड डेटा में अक्सर कई लेखकों की जानकारी मौजूद होती है.

स्ट्रक्चर्ड डेटा को जोड़ने का तरीका

स्ट्रक्चर्ड डेटा, किसी पेज के बारे में जानकारी देने और पेज के कॉन्टेंट को कैटगरी में बांटने का एक स्टैंडर्ड फ़ॉर्मैट है. अगर आपको स्ट्रक्चर्ड डेटा के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं है, तो स्ट्रक्चर्ड डेटा के काम करने का तरीका देखें.

स्ट्रक्चर्ड डेटा बनाने, उसकी जांच करने, और उसे रिलीज़ करने के बारे में खास जानकारी यहां दी गई है. वेब पेज में स्ट्रक्चर्ड डेटा जोड़ने के सिलसिलेवार निर्देशों के लिए, स्ट्रक्चर्ड डेटा कोडलैब (कोड बनाना सीखना) देखें.

  1. ज़रूरी प्रॉपर्टी जोड़ें. जिस फ़ॉर्मैट का इस्तेमाल हो रहा है उसके हिसाब से जानें कि पेज पर स्ट्रक्चर्ड डेटा कहां डालना है.
  2. दिशा-निर्देशों का पालन करें.
  3. ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) की जांच का इस्तेमाल करके, अपने कोड की पुष्टि करें. साथ ही, सभी ज़रूरी गड़बड़ियों को ठीक करें. ऐसी अन्य समस्याओं को भी ठीक करें जो टूल में फ़्लैग की जा सकती हैं. ऐसा इसलिए, क्योंकि इससे आपके स्ट्रक्चर्ड डेटा की क्वालिटी को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है. हालांकि, ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) में शामिल होने के लिए, यह ज़रूरी नहीं है.
  4. स्ट्रक्चर्ड डेटा वाले कुछ पेजों को डिप्लॉय करें. इसके बाद, यूआरएल जांचने वाला टूल इस्तेमाल करके देखें कि Google को पेज कैसा दिखेगा. पक्का करें कि Google आपका पेज ऐक्सेस कर सकता हो. साथ ही, देखें कि उस पेज को robots.txt फ़ाइल और noindex टैग से ब्लॉक न किया गया हो या लॉग इन करना ज़रूरी न हो. अगर पेज ठीक लगता है, तो Google को अपने यूआरएल फिर से क्रॉल करने के लिए कहा जा सकता है.
  5. Google को आगे होने वाले बदलावों की जानकारी देने के लिए हमारा सुझाव है कि आप साइटमैप सबमिट करें. Search Console साइटमैप एपीआई की मदद से, इसे ऑटोमेट भी किया जा सकता है.

उदाहरण

यहां मार्कअप वाले प्रोफ़ाइल पेज का उदाहरण दिया गया है:

JSON-LD

<html>
  <head>
    <title>Angelo Huff on Cool Forum Platform</title>
    <script type="application/ld+json">
    {
      "@context": "https://schema.org",
      "@type": "ProfilePage",
      "dateCreated": "2019-12-23T12:34:00-05:00",
      "dateModified": "2019-12-26T14:53:00-05:00",
      "mainEntity": {
        "@type": "Person",
        "name": "Angelo Huff",
        "alternateName": "ahuff23",
        "identifier": "123475623",
        "interactionStatistic": [{
          "@type": "InteractionCounter",
          "interactionType": "https://schema.org/FollowAction",
          "userInteractionCount": 1
        },{
          "@type": "InteractionCounter",
          "interactionType": "https://schema.org/LikeAction",
          "userInteractionCount": 5
        }],
        "agentInteractionStatistic": {
          "@type": "InteractionCounter",
          "interactionType": "https://schema.org/WriteAction",
          "userInteractionCount": 2346
        },
        "description": "Defender of Truth",
        "image": "https://example.com/avatars/ahuff23.jpg",
        "sameAs": [
          "https://www.example.com/real-angelo",
          "https://example.com/profile/therealangelohuff"
        ]
      }
    }
    </script>
  </head>
  <body>
  </body>
</html>
माइक्रोडेटा

<html>
  <head>
    <title>Angelo Huff on Cool Forum Platform</title>
  </head>
  <body itemtype="https://schema.org/ProfilePage" itemscope>
    <meta itemprop="dateCreated" content="2019-12-23T12:34:00-05:00" />
  	<meta itemprop="dateModified" content="2019-12-26T14:53:00-05:00" />
    <div itemprop="mainEntity" itemtype="https://schema.org/Person" itemscope>
      <div><span itemprop="alternateName" id="handle">ahuff23</span> (<span itemprop="name" id="real-name">Angelo Huff</span>)</div>
      <meta itemprop="identifier" content="123475623" />
      <div itemprop="description">Defender of Truth</div>
      <img itemprop="image" src="https://example.com/avatars/ahuff23.jpg" />
      <div>Links: <a itemprop="sameAs" href="https://www.therealangelohuff.com">Home Page</a><br />
                  <a itemprop="sameAs" href="https://example.com/profile/therealangelohuff">Other Social Media Site</a></div>
      <div><span itemprop="interactionStatistic" itemtype="https://schema.org/InteractionCounter" itemscope>
              <span itemprop="userInteractionCount">5</span>
              <span itemprop="interactionType" content="https://schema.org/LikeAction">likes</span>
           </span>,
           <span itemprop="interactionStatistic" itemtype="https://schema.org/InteractionCounter" itemscope>
              <span itemprop="userInteractionCount">1</span>
              <span itemprop="interactionType" content="https://schema.org/FollowAction">follower</span>
           </span>, and
           <span itemprop="agentInteractionStatistic" itemtype="https://schema.org/InteractionCounter" itemscope>
              <span itemprop="userInteractionCount">2346</span>
              <span itemprop="interactionType" content="https://schema.org/WriteAction">posts</span>
           </span>
       </div>
    </div>
  </body>
</html>

दिशा-निर्देश

अपने प्रोफ़ाइल पेज के स्ट्रक्चर्ड डेटा को Google Search में इस्तेमाल करने के लिए, आपको इन दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा:

कॉन्टेंट से जुड़े दिशा-निर्देश

  • पेज पर मुख्य तौर पर, वेबसाइट से जुड़ा कोई एक व्यक्ति या संगठन होना चाहिए. यहां प्रोफ़ाइल पेजों के कुछ उदाहरण दिए गए हैं:

    सही इस्तेमाल के उदाहरण:

    • किसी फ़ोरम या सोशल मीडिया साइट पर मौजूद उपयोगकर्ता का प्रोफ़ाइल पेज
    • किसी समाचार साइट पर मौजूद लेखक का पेज
    • ब्लॉग साइट पर "मेरे बारे में जानकारी" पेज
    • कंपनी की वेबसाइट पर कर्मचारी का पेज

    गलत इस्तेमाल के उदाहरण:

    • स्टोर का मुख्य होम पेज (आम तौर पर, बिना प्रोफ़ाइल वाली बहुत सारी जानकारी मौजूद होती है)
    • संगठन की समीक्षा करने वाली साइट (संगठन, वेबसाइट से नहीं जुड़ा है)

तकनीकी दिशा-निर्देश

अगर प्रोफ़ाइल पेज में क्रिएटर की हाल की गतिविधि भी शामिल है, तो पूरे कॉन्टेंट और मार्कअप के साथ पेज का रेफ़रंस देने के लिए, उन ऑब्जेक्ट पर यूआरएल का इस्तेमाल करके मार्कअप शामिल करें. उदाहरण के लिए, यह एक तरह का मार्कअप स्ट्रक्चर हो सकता है:

{
  "@context": "https://schema.org",
  "@type": "ProfilePage",
  "mainEntity": {
    "@id": "#main-author",
    "@type": "Person",
    "name": "Marlo Smith"
  },
  "hasPart": [{
    "@type": "Article",
    "headline": "Things to see in NJ",
    "url": "https://example.com/things-to-see-nj",
    "datePublished": "2014-02-23T18:34:00Z",
    "author": { "@id": "#main-author" }
  }]
}

अलग-अलग तरह के स्ट्रक्चर्ड डेटा की जानकारी

खोज के नतीजों में दिखाने के लिए, आपको अपने स्ट्रक्चर्ड डेटा में ज़रूरी प्रॉपर्टी शामिल करनी होंगी. अपने प्रोफ़ाइल पेजों के बारे में ज़्यादा जानकारी जोड़ने के लिए, आपके पास सुझाई गई प्रॉपर्टी भी शामिल करने का विकल्प होता है. इससे लोगों को बेहतर अनुभव दिया जा सकता है.

ProfilePage

ProfilePage की पूरी जानकारी, schema.org/ProfilePage पर मौजूद है.

ज़रूरी प्रॉपर्टी
mainEntity

Person या Organization

वह व्यक्ति या संगठन जिसके बारे में यह प्रोफ़ाइल पेज है. इससे पता चलता है कि इस पेज का मुख्य मकसद, इस इकाई के बारे में जानकारी देना है.

अगर जानकारी उपलब्ध है, तो सही जानकारी का इस्तेमाल करें. इसका मतलब है कि अगर आपको पता है कि पेज किसी व्यक्ति का है या संगठन का. अगर यह जानकारी मौजूद नहीं है, तो यह डिफ़ॉल्ट रूप से Person पर सेट होता है. उदाहरण के लिए, अगर यह खाता टाइप की जानकारी नहीं है.

सुझाई गई प्रॉपर्टी
dateCreated

DateTime

अगर लागू हो, तो आईएसओ 8601 तारीख फ़ॉर्मैट में प्रोफ़ाइल बनाने की तारीख और समय.

dateModified

DateTime

अगर लागू हो, तो प्रोफ़ाइल में मौजूद जानकारी में बदलाव किए जाने की तारीख और समय. यह जानकारी आईएसओ 8601 तारीख फ़ॉर्मैट में होनी चाहिए. आम तौर पर, इससे प्रोफ़ाइल के ऐसे मेटाडेटा के बारे में पता चलता है जिनमें लोगों ने बदलाव किया है. उदाहरण के लिए, जिन जगहों पर इस प्रोफ़ाइल का रेफ़रंस दिया गया है उनके लिए अतिरिक्त आउटलिंक जोड़ने पर, इसे बदलाव नहीं माना जाएगा.

Person या Organization

schema.org/Person और schema.org/Organization, दोनों ऐसी सामान्य प्रॉपर्टी शेयर करते हैं जिनका इस्तेमाल Google करता है.

ज़रूरी प्रॉपर्टी
name

Text

व्यक्ति या संगठन की पहचान करने का मुख्य तरीका. हमारा सुझाव है कि आप असली नामों के लिए इस फ़ील्ड का इस्तेमाल करें. साथ ही, सोशल मीडिया हैंडल के लिए alternateName का इस्तेमाल करें. हालांकि, अगर आपकी साइट पर उस व्यक्ति की पहचान सिर्फ़ इसी तरीके से की जाती है, तो सोशल मीडिया हैंडल के बारे में बताने के लिए इस फ़ील्ड का इस्तेमाल किया जा सकता है.

सुझाई गई प्रॉपर्टी
agentInteractionStatistic

InteractionCounter

लागू होने पर, प्रोफ़ाइल पेज की इकाई के व्यवहार से जुड़े उपयोगकर्ता के आंकड़े.

Google इन interactionTypes की पहचान करता है:

alternateName

Text

अगर लागू हो, तो एक और सार्वजनिक आइडेंटिफ़ायर. उदाहरण के लिए, अगर name फ़ील्ड में किसी व्यक्ति के असली नाम का इस्तेमाल किया गया है, तो सोशल मीडिया हैंडल की जानकारी दें.

description

Text

लागू होने पर, उपयोगकर्ता की बायलाइन या लागू क्रेडेंशियल.

identifier

Text

आपकी साइट में इस्तेमाल किया जाने वाला कोई भी यूनीक आइडेंटिफ़ायर, अगर लागू हो. यह एक इंटरनल डेटाबेस आईडी हो सकता है. आपकी साइट इसका इस्तेमाल किसी उपयोगकर्ता की पहचान करने के लिए करती है, भले ही उनके सोशल मीडिया हैंडल में बदलाव हो रहा हो.

image

URL या ImageObject

क्रिएटर की प्रोफ़ाइल इमेज का यूआरएल या ImageObject, अगर लागू हो. अगर कोई इमेज नहीं है, तो इस फ़ील्ड में कोई डिफ़ॉल्ट इमेज, आइकॉन या प्लेसहोल्डर इमेज शामिल न करें.

इमेज के बारे में अन्य दिशा-निर्देश:

  • हर पेज में कम से कम एक इमेज होनी चाहिए (चाहे आप मार्कअप को शामिल करें या न करें). Google, आसपेक्ट रेशियो (चौड़ाई-ऊंचाई का अनुपात) और रिज़ॉल्यूशन के हिसाब से, खोज के नतीजों में दिखाने के लिए सबसे अच्छी इमेज चुनेगा.
  • इमेज के यूआरएल ऐसे होने चाहिए जिन्हें क्रॉल और इंडेक्स किया जा सके. यूआरएल जांचने वाले टूल का इस्तेमाल करके, यह पता करें कि Google आपकी साइट के पेज ऐक्सेस कर पा रहा है या नहीं.
  • इमेज ऐसी होनी चाहिए जो मार्कअप किए गए कॉन्टेंट के बारे में बताती हों.
  • इमेज का उस फ़ाइल फ़ॉर्मैट में होना ज़रूरी है जो Google Images के साथ काम करता हो.
  • सबसे अच्छे नतीजों के लिए, हम हाई रिज़ॉल्यूशन वाली ऐसी कई इमेज (चौड़ाई और ऊंचाई को गुणा करने के बाद कम से कम 50,000 पिक्सल) उपलब्ध कराने का सुझाव देते हैं जिनका आसपेक्ट रेशियो (चौड़ाई-ऊंचाई का अनुपात) 16x9, 4x3, और 1x1 हो.

उदाहरण के लिए:

"image": [
  "https://example.com/photos/1x1/photo.jpg",
  "https://example.com/photos/4x3/photo.jpg",
  "https://example.com/photos/16x9/photo.jpg"
]
interactionStatistic

InteractionCounter

लागू होने पर, प्रोफ़ाइल पेज की इकाई पर लागू किए गए उपयोगकर्ता के आंकड़े. सिर्फ़ उस प्लैटफ़ॉर्म के बारे में आंकड़े शामिल करें जिस पर प्रोफ़ाइल पेज होस्ट किया गया है. इसमें यह जानकारी न दें कि क्रिएटर के होम पेज पर भी 1,00,000 फ़ॉलोअर हैं.

Google इन interactionTypes की पहचान करता है:

sameAs

URL

प्रोफ़ाइल की अन्य बाहरी प्रोफ़ाइलों या होम पेजों का यूआरएल, अगर लागू हो.

Search Console की मदद से, ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) पर नज़र रखना

Search Console एक ऐसा टूल है जिसकी मदद से, आप Google Search में अपने पेज की परफ़ॉर्मेंस पर नज़र रख सकते हैं. Google Search के नतीजों में अपनी साइट को शामिल कराने के लिए, आपको Search Console में साइन अप करने की ज़रूरत नहीं है. हालांकि, इससे आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि Google आपकी साइट को कैसे देखता है. साथ ही, इसकी मदद से, साइट की परफ़ॉर्मेंस को भी बेहतर बनाया जा सकता है. हमारा सुझाव है कि आप इन मामलों में Search Console देखें:

  1. पहली बार स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल करने के बाद
  2. नए टेंप्लेट जारी करने या कोड को अपडेट करने के बाद
  3. समय-समय पर ट्रैफ़िक का विश्लेषण करते समय

पहली बार स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल करने के बाद

जब Google, आपके पेजों को इंडेक्स कर ले, तब ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) की स्थिति वाली रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, उन गड़बड़ियों को देखें जिन्हें ठीक करने की ज़रूरत है. आम तौर पर, मान्य आइटम की संख्या में बढ़ोतरी होगी और अमान्य आइटम की संख्या में कोई बढ़ोतरी नहीं होगी. अगर आपको स्ट्रक्चर्ड डेटा में गड़बड़ियां मिलती हैं, तो:

  1. अमान्य आइटम ठीक करें.
  2. लाइव यूआरएल की जांच करें और देखें कि गड़बड़ी ठीक हुई है या नहीं.
  3. स्थिति की रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, पुष्टि करने का अनुरोध करें.

नए टेंप्लेट जारी करने या कोड को अपडेट करने के बाद

अपनी वेबसाइट में अहम बदलाव करने पर, स्ट्रक्चर्ड डेटा के अमान्य आइटम की संख्या में बढ़ोतरी पर नज़र रखें.
  • अगर आपको अमान्य आइटम की संख्या में बढ़ोतरी दिखती है, तो हो सकता है कि आपने ऐसा नया टेंप्लेट रोल आउट किया हो जो काम नहीं करता हो. इसके अलावा, यह भी हो सकता है कि आपकी साइट, मौजूदा टेंप्लेट से नए और खराब तरीके से इंटरैक्ट कर रही हो.
  • अगर आपको मान्य आइटम की संख्या में कमी दिखती है, यानी वह अमान्य आइटम की संख्या में बढ़ोतरी से मेल नहीं खाती है, तो हो सकता है कि अब आप पेजों में स्ट्रक्चर्ड डेटा एम्बेड नहीं कर रहे हैं. गड़बड़ी की वजह जानने के लिए, यूआरएल जांचने वाले टूल का इस्तेमाल करें.

समय-समय पर ट्रैफ़िक का विश्लेषण करना

परफ़ॉर्मेंस रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, Google Search से आने वाले ट्रैफ़िक का विश्लेषण करें. आपको डेटा से पता चलेगा कि आपका पेज Search में, ज़्यादा बेहतर नतीजे (रिच रिज़ल्ट) के तौर पर कितनी बार दिखता है. साथ ही, यह भी पता चलेगा कि लोग उस पर कितनी बार क्लिक करते हैं और खोज के नतीजों में आपकी साइट के दिखने की औसत जगह क्या है. आपके पास इन नतीजों को Search Console API की मदद से अपने-आप देखने का भी विकल्प है.

समस्या का हल करना

अगर आपको स्ट्रक्चर्ड डेटा लागू करने या डीबग करने में कोई समस्या आ रही है, तो यहां कुछ ऐसे रिसॉर्स दिए गए हैं जिनसे आपको मदद मिल सकती है.