अपनी वेबसाइट का सॉफ़्टवेयर पसंद के मुताबिक बनाना

आपकी वेबसाइट के कॉन्टेंट को मैनेज करने के कई तरीके हैं. कुछ साइटों के मालिक, बिल्कुल नए सिरे से अपनी वेबसाइट बनाते हैं. अन्य साइटों के मालिक, WordPress, Drupal या Joomla जैसी कंपनियों के किसी मौजूदा सॉफ़्टवेयर पैकेज का इस्तेमाल करते हैं. ऐसा वे इसलिए करते हैं, ताकि उन्हें बनी-बनाई थीम, डिज़ाइन, और टेंप्लेट मिल सकें. वेबसाइट बनाने वाले किसी मौजूदा सॉफ़्टवेयर का इस्तेमाल करने पर, साइट के मालिक को साइट बनाने के लिए कोड, स्टाइल शीट, और स्क्रिप्ट तैयार करने की ज़रूरत नहीं होती है. उन्हें सिर्फ़ साइट के लिए कॉन्टेंट (जैसे कि फ़ोटो, इमेज, और टेक्स्ट) उपलब्ध कराना होता है.

नई साइट बनाना

अगर आप किसी मौजूदा सॉफ़्टवेयर पैकेज का इस्तेमाल करके, बिल्कुल नए सिरे से साइट बनाना चाहते हैं, तो शुरू करने के लिए नीचे दिए गए सॉफ़्टवेयर पैकेज देखें. इनमें से कई सॉफ़्टवेयर पैकेज, "कॉन्टेंट मैनेजमेंट सिस्टम" या सीएमएस के तौर पर जाने जाते हैं. ऐसा हो सकता है कि कुछ कंपनियां आपकी वेबसाइट के लिए सॉफ़्टवेयर उपलब्ध कराने के साथ-साथ, होस्टिंग सेवाएं भी उपलब्ध कराएं.

यह पक्का करना कि आपकी मौजूदा साइट, मोबाइल-फ़्रेंडली है

अगर आपकी वेबसाइट बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाले सॉफ़्टवेयर में, मोबाइल-फ़्रेंडली साइट बनाने के लिए दस्तावेज़ नहीं हैं, तो हमारे सामान्य दिशा-निर्देशों का पालन करके पक्का करें कि आपकी वेबसाइट बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाला सॉफ़्टवेयर मोबाइल-फ़्रेंडली हो:

  1. अपनी साइट का बैक अप लें. हमारा सुझाव है कि कोई भी बदलाव या अपडेट करने से पहले अपनी साइट का बैक अप ले लें. अगर आपको साइट का बैक अप लेने का तरीका नहीं पता है, तो CMS की सेवा देने वाली कंपनी से संपर्क करें या वेबसाइटों के मालिकों के लिए बनाए गए हमारे सहायता समुदाय को ब्राउज़ करें.
  2. अपने CMS को नए वर्शन में अपडेट करें. कुछ मामलों में, नए वर्शन में अपडेट करने पर, ज़रूरी सुरक्षा अपग्रेड अपने आप लागू हो जाते हैं और आपकी साइट मोबाइल-फ़्रेंडली हो जाती है. अगर प्रोसेस अपने आप शुरू नहीं होता है, तो सुरक्षा से जुड़े खतरों से बचने के लिए अपडेट को मैन्युअल रूप से ज़रूर चालू कर दें. जैसे कि Joomla 3 मोबाइल पर भी काम करता है.
  3. अगर सीएमएस में कस्टम थीम दी गई हैं, तो पक्का करें कि थीम मोबाइल-फ़्रेंडली हो:
    1. अपने सीएमएस के एडमिन पैनल से, अपनी साइट के लिए थीम देखें और थीम के दस्तावेज़ में "मोबाइल" या "रिस्पॉन्सिव" जैसे शब्द ढूंढें.
    2. अगर कोई डेमो टेंप्लेट दिया गया है, तो टेंप्लेट के यूआरएल को कॉपी करके मोबाइल-फ़्रेंडली जांच में चिपकाएं और पक्का करें कि वह मोबाइल-फ़्रेंडली है.
    3. पक्का करें कि टेंप्लेट तेज़ी से काम करता हो. यह जानने के लिए आपको PageSpeed Insights का स्पीड सेक्शन देखना होगा. साथ ही, यह भी देखना होगा कि स्पीड सेक्शन में किसी समस्या पर "ठीक किया जाना चाहिए" के तौर पर निशान तो नहीं लगा है.
  4. अपने CMS के सहायता फ़ोरम पर जाकर देखें कि और लोगों को उनकी साइटों के मोबाइल वर्शन में क्या समस्याएं आ रही हैं. ज़्यादा जानकारी और सहायता के लिए हमारे Google Search Central फ़ोरम पर जाएं.
  5. मोबाइल-फ़्रेंडली जांच का इस्तेमाल करके पक्का करें कि आपकी साइट मोबाइल-फ़्रेंडली है या नहीं.