यूआरएल की सूची बनाना

हमारे सिस्टम को आपकी सामग्री ढूंढने के लिए उनके यूआरएल की ज़रूरत पड़ती है. इंडेक्स करने की शुरुआती जानकारी के मुताबिक, हमारा सिस्टम आपकी वेबसाइट को क्रॉल करने के लिए एक तय एल्गोरिद्म पर काम करता है. इसके लिए आपको अलग से कुछ नहीं करना पड़ता. यह आपके लक्ष्यों को हासिल करने के लिए काफ़ी होगा.

अगर आपकी साइट पर ऐसी सामग्री है जिसका लिंक दूसरे पेजों पर नहीं दिया है, तो ऐसे पेजों के यूआरएल की एक सूची बनाकर हमारे सिस्टम को इसकी जानकारी दें. यूआरएल की इस सूची को साइटमैप कहा जाता है. इसमें नए या अनजान जानकारी वाले पेज शामिल होते हैं. कई मामलों में, इससे हमारे सिस्टम को हाल ही जोड़े गए मार्कअप ढूंढने में मदद मिलती है. साथ ही, खोज नतीजों में आपकी सामग्री को रिच नतीजे के रूप में देखना भी आसान हो जाता है.

आपके दिए गए यूआरएल के प्रकार

आपने Google को जिन यूआरएल की जानकारी दी है वे आम तौर पर दो तरह के होते हैं:

  • कैननिकल यूआरएल—आपकी सामग्री के मुख्य यूआरएल.

    ज़्यादातर मामलों में, किसी वेबसाइट की सामग्री के एक खास हिस्से को एक्सेस करने के लिए मुख्य रूप से कैननिकल यूआरएल इस्तेमाल किया जाता है. उदाहरण के लिए, अगर आपकी सामग्री एचटीएमएल और एएमपी एचटीएमएल दोनों तरह के यूआरएल पर उपलब्ध है, लेकिन आप एचटीएमएल वर्शन इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो एचटीएमएल वर्शन के यूआरएल को कैननिकल यूआरएल के तौर पर तय करें. वहीं, अगर साइट पूरी तरह से एएमपी एचटीएमएल वर्शन पर बनी है और उसमें एचटीएमएल वर्शन की कोई सामग्री नहीं है, तो एएमपी एचटीएमएल ही कैननिकल यूआरएल होगा. हमारे सहायता केंद्र में कैननिकल यूआरएल के बारे में ज़्यादा जानें.

  • वैकल्पिक यूआरएल—मुख्य सामग्री की वैकल्पिक सामग्री के यूआरएल.

    आम तौर पर, एक जैसी सामग्री के लिए अलग-अलग वर्शन वाले यूआरएल होने पर आप वैकल्पिक यूआरएल चुनते हैं. इनमें एएमपी पेज या मूल भाषा से अनुवाद की गई सामग्री शामिल हो सकती है. जब इन यूआरएल को लिंक किया जाता है, तो हमारे सिस्टम को एक जैसी सामग्री की रैंकिंग तय करने में आसानी होती है. साथ ही, हम उपयोगकर्ता को सही संसाधन दिखा पाते हैं. उदाहरण के लिए, मोबाइल उपयोगकर्ता को एएमपी पेज दिखाना.

ज़्यादा जानकारी के लिए अपने ऑनलाइन संसाधनों को जोड़ने के तरीके के बारे में जानें.

एक सामान्य साइटमैप बनाना

सबसे सामान्य साइटमैप आपके कैननिकल यूआरएल की सूची वाली टेक्स्ट फ़ाइल होती है. आप सूची बना सकते हैं और अपनी साइट पर इसे होस्ट कर सकते हैं. आपको हर लाइन में एक यूआरएल देना होगा; उदाहरण के लिए:

http://www.example.com/dogs/poodles/poodle1.html
http://www.example.com/dogs/poodles/poodle2.html

साइटमैप बनाने वाले टूल आपकी साइट के लिए फ़ाइल बनाने का काम आसान करते हैं. ये WordPress और Drupal जैसे दूसरे सामग्री प्रबंधन सिस्टम के लिए उपलब्ध हैं. आम तौर पर, साइटमैप बनाने वाले टूल एक्सएमएल फ़ाइलें बनाते हैं जो हमारे सिस्टम पर भी काम करती हैं.

टेक्स्ट फ़ॉर्मैट में बना साइटमैप सिर्फ़ सामग्री ढूंढने में मदद करता है. इससे हमारे सिस्टम को यह पता नहीं चल पाता कि आपकी सामग्री कब अपडेट हुई. ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि साइटमैप में मेटा-डेटा की दूसरी जानकारी मौजूद नहीं होतीं. उदाहरण के लिए, तारीख में बदलाव की जानकारी या वैकल्पिक यूआरएल की कोई सूची. आपको कैननिकल पेज में ही किसी वैकल्पिक सामग्री को लिंक करना होगा और यह तय करना होगा कि वे वैकल्पिक पेज वापस कैननिकल यूआरएल पर लेकर जा रहे हों. इस बारे में आपके ऑनलाइन संसाधनों को जोड़ने के तरीके में बारे में बताया गया है.

Search Console के सहायता केंद्र में साइटमैप के बारे में जानें.

एक्सएमएल साइटमैप बनाना

अगर आप यूआरएल के अपडेट बारे में जानकारी देना और इसे वैकल्पिक यूआरएल के साथ जोड़ना चाहते हैं, तो एक्सएमएल साइटमैप इस्तेमाल करना ज़्यादा सही होगा. एक्सएमएल साइटमैप एक ही फ़ाइल में कैननिकल और वैकल्पिक यूआरएल, दोनों को शामिल कर सकता है. साथ ही, इसमें तारीख भी बदली जा सकती है.

नीचे दिए गए उदाहरण में एक पेज के लिए बने सामान्य एक्सएमएल साइटमैप में कैननिकल और एएमपी यूआरएल, दोनों का इस्तेमाल किया गया है. साथ ही, इसमें तारीख बदलने की सुविधा भी है.

<?xml version="1.0" encoding="utf-8"?>
<urlset xmlns="http://www.sitemaps.org/schemas/sitemap/0.9">
  <url>
    <loc>http://example.com/dogs/poodles/poodle1.html</loc>
    <xhtml:link rel="amphtml" href="http://example.com/dogs/poodles/poodle1.amp.html"/>
    <lastmod>2016-01-13T18:30:02Z</lastmod>
  </url>
</urlset>

आपकी तारीख का टाइमस्टैम्प W3C Datetime फ़ॉर्मैट में ही होना चाहिए. इसकी मदद से आप अपनी पसंद से तारीख का फ़ॉर्मैट बदल सकते हैं. आप YYYY-MM-DD फ़ॉर्मैट का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.

साइटमैप के लिए दिशा-निर्देश

हमारा सुझाव है कि आप अपने साइटमैप के लिए सामान्य टेक्स्ट या एक्सएमएल फ़ॉर्मैट इस्तेमाल करें. किसी साइटमैप फ़ाइल में 50,000 से ज़्यादा यूआरएल शामिल नहीं किए जा सकते. यह फ़ाइल बिना आकार छोटा किए 50 एमबी से ज़्यादा की नहीं होनी चाहिए. इसलिए, यूआरएल की संख्या ज़्यादा होने पर उन्हें अलग-अलग फ़ाइलों में बाँटना चाहिए.

साइटमैप के दिशा-निर्देशों की पूरी सूची देखने के लिए Search Console के सहायता केंद्र में साइटमैप बनाना और सबमिट करना शीर्षक वाला लेख देखें.

निम्न के बारे में फ़ीडबैक भेजें...