Search के काम करने के तरीके की बुनियादी जानकारी

Google पूरी तरह से अपने-आप काम करने वाला सर्च इंजन है, जो कि वेब क्रॉलर सॉफ़्टवेयर का इस्तेमाल करता है. यह सॉफ़्टवेयर, नियमित तौर पर साइटें खोजता रहता है, ताकि उन्हें हमारे इंडेक्स में जोड़ सके. असल में, खोज के नतीजों में दिखने वाली ज़्यादातर साइटें मैन्युअल तौर पर सबमिट नहीं की जाती हैं. हमारा वेब क्रॉलर जब वेब से साइटों को क्रॉल करता है, तब वह साइटों को ढूंढकर अपने-आप हमारे इंडेक्स में जोड़ देता है.

Google Search तीन चरणों में काम करता है:

  • क्रॉल करना: Google अपने-आप काम करने वाले प्रोग्राम क्रॉलर की मदद से, वेबसाइटों के साथ-साथ उनके नए और अपडेट किए गए वेब पेजों को खोजता है. Google उन पेजों के पतों (या पेज के यूआरएल) की जानकारी एक बड़ी सूची में इकट्ठा करता है, ताकि वह इस जानकारी को बाद में देख सके. हम पेजों को कई अलग-अलग तरीकों से खोजते हैं. हालांकि, इन्हें खोजने का मुख्य तरीका यह है कि हम नए पेजों के लिंक पर उन पेजों की मदद से पहुंचें जिनकी जानकारी हमारे पास पहले से मौजूद है.
  • इंडेक्स करना: Google उन पेजों की जानकारी जुटाता है जिन्हें उसने क्रॉल करके खोजा है. वह इस बात का पता लगाने की कोशिश करता है कि हर पेज किस बारे में है. Google, किसी पेज के बारे में जानकारी इकट्ठा करने के लिए, उस पेज पर मौजूद कॉन्टेंट, इमेज, और वीडियो का विश्लेषण करता है. यह जानकारी Google इंडेक्स में सेव की जाती है. यह एक बेहद बड़ा डेटाबेस है, जो कई कंप्यूटर में सेव होता है.
  • खोज के नतीजे दिखाना: जब कोई उपयोगकर्ता Google पर कुछ खोजता है, तब Google सबसे अच्छी क्वालिटी यानी ज़्यादा काम के नतीजे दिखाने की कोशिश करता है. "सबसे अच्छी क्वालिटी" के नतीजे दिखाने के लिए कई चीज़ों को ध्यान में रखा जाता है, जैसे कि उपयोगकर्ता की जगह की जानकारी, भाषा, डिवाइस (डेस्कटॉप या फ़ोन), और उपयोगकर्ता ने पिछली बार क्या खोजा था. उदाहरण के लिए, अगर भारत में कोई उपयोगकर्ता इंटरनेट पर "साइकल की मरम्मत करने वाली दुकान" के बारे में खोजता है और बांग्लादेश में भी कोई उपयोगकर्ता इंटरनेट पर यही खोजता है, तो दोनों को खोज के अलग-अलग नतीजे दिखेंगे. Google किसी पेज की रैंक बढ़ाने के लिए पैसे नहीं लेता. पेज की रैंकिंग, एल्गोरिदम की मदद से तय की जाती है.

अगर आपको Search के काम करने का तरीका जानना है, तो यहां इस बारे में ज़्यादा जानकारी दी गई है. यहां Google Search के काम करने के तरीके के बारे में और भी ज़्यादा जानकारी देने वाला लेख भी उपलब्ध है.