Google Assistant रोज़मर्रा के काम पूरे करने में आपकी मदद कैसे करती है

Google Assistant आपको कहीं भी, कभी भी, कुछ भी करने में मदद करती है। जब आप कोई सवाल पूछते हैं या कुछ करने के लिए कहते हैं, तो Assistant आपके अनुरोधों का जवाब सबसे मददगार तरीक़े से देने की कोशिश करती है - चाहे आपको रोज़ाना के कामों में मदद की ज़रूरत हो, अपने स्मार्ट होम डिवाइस को कंट्रोल करना हो, संगीत सुनने या गेम खेलने का आनंद लेना हो, दोस्तों या परिवार के सदस्यों से बातचीत करनी हो, किसी सवाल का झटपट जवाब पाना हो या स्थानीय जानकारी हासिल करनी हो या दूसरे कई काम करने हों।

ऐसा करने के लिए, Assistant को यह समझ में आना चाहिए कि आप पूछ क्या रहे हैं, आपके अनुरोध के पीछे आपका मक़सद क्या है, ताकि वह सबसे अच्छे तरीक़े से आपके काम में मदद कर सके। इस लक्ष्य को पूरा करने से पहले, यह जानना ज़रूरी है कि Assistant कैसे काम करती है।

उन मुख्य बातों के बारे में ज़्यादा जानें जो यह तय करने में सहायता करती हैं कि Assistant आपके अनुरोधों को कैसे समझती है और उन्हें पूरा करती है:

आपके अनुरोध को समझना

अगर आप बोलकर Assistant का इस्तेमाल करते हैं, तो हमारी बोली पहचानने की टेक्नोलॉजी आपके अनुरोध के फ़ॉर्मैट को टेक्स्ट में बदल देती है। इसके बाद, Assistant उस टेक्स्ट का विश्लेषण करती है। ऐसा करने के लिए, वह टेक्स्ट के साथ-साथ आपके हाल ही के अनुरोधों या आपके डिवाइस के टाइप जैसी काम की जानकारी इस्तेमाल करती है। इससे, Assistant को आपका अनुरोध समझने में मदद मिलती है।

उदाहरण के लिए, अगर आप "Ok Google, बंद करो" कहते हैं, तो शायद आप उन दो टाइमर में से किसी एक को बंद करना चाहते हैं जो चल रहे हैं या चल रहे संगीत को बंद करना चाहते हैं या उस रूटीन को बंद करना चाहते हैं जो चल रहा है। यह भी हो सकता है कि आप "बंद करो" से जुड़े खोज के नतीजे देखना चाहते हों या शायद कुछ बिल्कुल अलग ही देखना चाहते हों।

कौनसा विकल्प कितना सही है, यह जानने के लिए Assistant आपके अनुरोध से निकलने वाले अलग-अलग मतलब और हर एक मतलब के लिए अपने जवाब की एक सूची तैयार करती है। इसके बाद, यह उन विकल्पों की एक रैंकिंग तैयार करती है जिनसे आपके अनुरोधों का सबसे अच्छे तरीक़े से जवाब दिया जा सके।

उपलब्ध जवाबों की रैंकिंग तैयार करना

उपलब्ध जवाबों की रैंकिंग तैयार करने में बहुत सारी चीज़ें Assistant की मदद करती हैं। इनमें ये मुख्य बातें भी शामिल हैं:

  • आपने जो पूछा था उसे Assistant कितना समझ पाई है।
  • आपके अनुरोध के किसी ख़ास मतलब के लिए वाक़ई कोई जवाब उपलब्ध है या नहीं।
  • मिलते-जुलते अनुरोधों के किसी ख़ास जवाब से पुराने उपयोगकर्ता कितने संतुष्ट थे।
  • जवाब कितना पुराना है, ताकि आपके लिए नए, अलग-अलग और सबसे अच्छे जवाब ढूँढे जा सकें।
  • आपके डिवाइस पर वह जवाब कितना बेहतर काम करता है। उदाहरण के लिए, जिन जवाबों को स्क्रीन वाले डिवाइस के लिए ऑप्टिमाइज़ किया गया है वे स्पीकर वाले डिवाइस के लिए जवाबों की रैंकिंग में नीचे हो सकते हैं। अगर Assistant की सुविधा वाले किसी पार्टनर डिवाइस पर, आप उस डिवाइस से जुड़ा कोई ख़ास अनुरोध करते हैं, तो डिवाइस बनाने वाली कंपनी ऐसे सभी या कुछ अनुरोधों के जवाब दे सकती है। पार्टनर की राय में सबसे अच्छे उपयोगकर्ता अनुभव क्या हैं, इस आधार पर कंपनी अनुरोधों के जवाब तय करती है। इन अनुरोधों में डिवाइस का वॉल्यूम कम-ज़्यादा करने या कोई फ़िल्म चलाने जैसे अनुरोध शामिल हैं।
  • आपने हाल ही में और क्या अनुरोध किए थे। उदाहरण के लिए, अगर आप “Ok Google, पाँच मिनट का टाइमर शुरू करो” कहते हैं, और थोड़ी देर बाद कहते हैं, "Ok Google, बंद करो," तो इसका मतलब समझने के लिए, Assistant आपके पिछले अनुरोध का इस्तेमाल कर सकती है।
  • आप इस समय अपने डिवाइस पर क्या गतिविधि कर रहे हैं, जैसे कि Assistant से मदद माँगते समय आपने कौनसा ऐप खोला है या Assistant किस काम में पहले से ही आपकी मदद कर रही है। उदाहरण के लिए, अगर आप संगीत सुन रहे हैं और "Ok Google, स्किप करो" कहते हैं, तो Assistant आपको अगले गाने पर ले जाती है। इसी तरह, अगर आप Assistant का इस्तेमाल करके रेस्टोरेंट की बुकिंग करने की कोशिश कर रहे हैं, तो यह दूसरे काम करने से पहले आपकी बुकिंग करती है।
  • कुछ स्थितियों में, उपयोगकर्ता अनुभव को बेहतर बनाने के मक़सद से, सबसे अच्छे जवाबों को मैन्युअल तरीक़े से रैंकिंग में ऊपर किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, उपयोगकर्ताओं को समय-समय पर COVID-19 के बारे में जानकारी देने और लोगों की सुरक्षा को ख़तरे में डालने वाली गलत जानकारी को रोकने के लिए, हम विश्व स्वास्थ्य संगठन और सरकारी स्वास्थ्य मंत्रालयों जैसे आधिकारिक स्रोतों से जानकारी ले सकते हैं।

रैंकिंग करने के मुख्य तरीक़े इस बात से तय होते हैं कि आप निजी प्राथमिकताओं के साथ, Assistant का इस्तेमाल किस तरह कर रहे हैं। इसके बारे में नीचे बताया गया है।

सेवा देने वाली कंपनी चुनना

Assistant दूसरे क्रिएटर्स और कंपनियों से मिलने वाले जवाबों के साथ-साथ, Google से मिलने वाले जवाबों की मदद से आपके कुछ अनुरोधों का जवाब दे सकती है। उदाहरण के लिए, आप अपने पसंदीदा क्रिएटर का गेम चलाने के लिए, "Ok Google, [name of game] गेम चलाओ" कह सकते हैं और Assistant वह गेम चालू कर देगी। आप एक सामान्य अनुरोध भी कर सकते हैं, जैसे कि “Ok Google, एक गेम चलाओ।” इस अनुरोध को, Assistant पर गेम की सेवा देने वाली कई कंपनियाँ पूरा कर सकती हैं। ऐसी स्थितियों में, जब एक अनुरोध को पूरा करने के लिए एक से ज़्यादा सेवा देने वाली कंपनियाँ मौजूद हों, तो Assistant इन नियमों के आधार पर सेवा देने वाली कंपनी को चुनती है:

  1. अगर आपने सेवा देने वाली किसी कंपनी को चुना है, तो Assistant भी उसी कंपनी को चुनती है। उदाहरण के लिए, हो सकता है कि आपने Assistant की सेटिंग में किसी पसंदीदा संगीत ऐप्लिकेशन को चुना हो या सेट अप के दौरान ऐसा किया हो या अपने अनुरोध में ही किसी संगीत ऐप्लिकेशन का नाम साफ़ तौर पर लिया हो।
  2. अगर आपने सेवा देने वाली किसी कंपनी को नहीं चुना है, तो Assistant मौजूद विकल्पों की रैंकिंग करती है। रैंकिंग के लिए, Assistant इन मुख्य बातों पर ध्यान देती है:

    (a) आपकी प्राथमिकताओं के बारे में जानकारी

    • आपके Google खाते की सेटिंग के आधार पर, इस डेटा में सेवा देने वाली वे कंपनियाँ शामिल हो सकती हैं जिन्हें आप अक्सर इस्तेमाल करते हैं या आपने जिनका हाल ही में इस्तेमाल किया है। इस डेटा में वे ऐप्लिकेशन शामिल हो सकते हैं जो आपके फ़ोन या किसी दूसरे डिवाइस पर इंस्टॉल किए गए हैं या खोले जाते हैं। इसके अलावा, आपने सेवा देने वाली जिन कंपनियों को अपने Google खाते से जोड़ा है उनके बारे में और Google की सेवाओं पर आपकी गतिविधियों के बारे में अन्य जानकारी भी इस डेटा में शामिल है।
    • आपके डेटा की मदद से, Assistant और Google की दूसरी सेवाएँ आपके लिए कैसे बेहतर काम करती हैं, इस बारे में ज़्यादा जानने और निजता मैनेज करने के विकल्पों के लिए, Assistant में अपना डेटा देखें।

    (b) सेवा देने वाली कंपनी के बारे में जानकारी

    • सेवा देने वाली किसी कंपनी से मिलने वाले उपयोगकर्ता अनुभव की क्वालिटी जिन बातों पर आधारित होती है उनमें कॉन्टेंट की लोकप्रियता, उपयोगकर्ता रेटिंग का औसत शामिल है। साथ ही, कंपनी उपयोगकर्ताओं के सवालों का कितना जल्दी और सटीक जवाब देती है, और आपने उस कंपनी की सदस्यता ले रखी है या नहीं, इन बातों से भी उपयोगकर्ता अनुभव की क्वालिटी तय की जाती है।
    • सेवा देने वाली कंपनी, स्टॉक में उपलब्ध प्रॉडक्ट, ख़ास मेन्यू आइटम या चुनिंदा हवाई उड़ानों का समय जैसे सवालों का कितने बेहतर तरीके से जवाब देती है।
    • ऑडियंस या संवेदनशील जानकारी पर लागू होने वाली क़ानूनी शर्तों की वजह से, मंज़ूर किए जाने वाले जवाब सीमित हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, 'परिवार के लिए ख़ास कार्रवाइयाँ' कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाली और सेवा देने वाली सभी कंपनियों को यह पक्का करना होगा कि उनकी कार्रवाइयाँ 'कोपा' जैसे क़ानूनों का पालन करती हों।
    • कुछ स्थितियों में, उपयोगकर्ताओं को सबसे अच्छे नतीजे देने के लिए Google के साथ की गई साझेदारी की वजह से, सेवा देने वाली कंपनियाँ रैकिंग में ऊपर हो सकती हैं।

  3. अगर सेवा देने वाली किसी भी कंपनी को सबसे ऊँची रैंकिंग नहीं मिलती है, तो Assistant आपसे सेवा देने वाली कंपनी चुनने के लिए कह सकती है, ताकि अनुरोध का जवाब दे सके।

अनुरोध को पूरा करने के लिए सबसे अच्छे जवाब देना

रैंकिंग की प्रक्रिया पूरी होने के बाद, Assistant उपलब्ध विकल्पों में से सबसे अच्छे जवाब को चुनती है, विकल्पों की सूची दिखाती है या अगर वह अनुरोध समझ नहीं पाती, तो आपको इसकी जानकारी देती है।

अगर ज़्यादातर जवाब ऊँची रैंकिंग वाले ही हैं, तो सवाल का मक़सद समझने के लिए Assistant आपसे और जानकारी माँग सकती है। वह आपको एक के बाद एक सुझाव भी दिखा सकती है (स्क्रीन वाले डिवाइस पर) या मिलते-जुलते दूसरे सवाल पूछने के लिए कह सकती है।

कुछ मामलों में, Assistant के लिए आपके अनुरोध का जवाब देने का सबसे अच्छा तरीक़ा यही होता है कि वह Google Search से मिले नतीजे दिखाए। उदाहरण के लिए, Assistant आपके फ़ोन पर या स्क्रीन वाले दूसरे डिवाइस पर खोज के नतीजे दिखा सकती है, अगर उसे लगता है कि आप बहुत सारे नतीजे देखना चाहते हैं या ऊँची रैंकिंग वाले एक से ज़्यादा जवाब न मिले हों।

आप Search कैसे काम करता है पर जाकर, इस बारे में ज़्यादा जान सकते हैं कि Google का Search रैंकिंग वाला एल्गोरिदम कैसे काम करता है। साथ ही, आप यह भी जान सकते हैं कि Google Search से अलग-अलग तरह के कौनसे जवाब मिल सकते हैं।

आम तौर पर, Assistant जब Google Search के नतीजे दिखाती है, तो ये वही मिलते-जुलते नतीजे होते हैं जो आप Google Search में खोजते हैं। उपयोगकर्ताओं के लिए सही और मददगार नतीजे देने के लिए, Assistant एल्गोरिदम से जुड़े कुछ बदलाव भी लागू करती है:

  • स्मार्ट डिसप्ले जैसे शेयर किए जाने वाले डिवाइस पर, Assistant ऐसे कॉन्टेंट को दिखने से रोक सकती है जो अश्लील और ग़लत हैं।
  • Assistant आपके अनुरोध को पूरा करने के लिए, उससे जुड़ी जानकारी देख सकती है। उदाहरण के लिए, आपकी पिछली क्वेरी, आपके डिवाइस की क्षमताएँ, और उस तरह के डिवाइस को इस्तेमाल करने का आपका पैटर्न। उदाहरण के लिए, फ़ोन की तुलना में टीवी पर वीडियो के ज़्यादा नतीजे दिख सकते हैं।